Breaking News

Thursday, 13 July 2017

Science से जुड़ी 20 ऐसी बाते जिन्हे आप झूठ मानते आए हैं

Science से जुड़ी 20 ऐसी बाते जिन्हे आप झूठ मानते आए हैं 



Science Facts in Hindi

विज्ञान से जुड़े तथ्य

1. वैज्ञानिक आज तक निश्चित नहीं कर पाए हैं, कि डायनासोर का रंग क्या था।
Scientists have not been able to determine what was the color of dinosaurs till date.
2. शुक्र ग्रह पर एक दिन पृथ्वी के एक साल से बड़ा होता है।
One day on Venus is larger than one year of Earth.
3. आपकी जानकारी के लिए बता दे -40 डिग्री फारेनहाइट -40 डिग्री सेल्सियस के बराबर है।
For your information, let's say -40 degrees Fahrenheit -40 degrees Celsius.
4. शनि ग्रह का घनत्व इतना कम हैं कि यदि कांच के किसी विशालकर बर्तन में पानी भरकर शनि को उसमें डाला जाये तो वह उसमें तैरने लगेगा।
The density of Saturn planet is so low that if Saturn is filled with water in a large vessel of glass, it will float in it.

5. तापमान चाहे कितना भी कम क्यों न हो जाए, गैसोलीन कभी भी नहीं जमता।

No matter how low temperatures, gasoline never accumulates.

6. जब आप किसी सीधी चढ़ाई वाले पहाड़ पर चढ़ते हैं तो आपके घुटनों पर आपके शरीर का तीन गुना भार होता है।
When you climb a straight-climbing mountain, your knees are three times the weight on your body.

7. अगर किसी एक आकाश गंगा के सारे तारे नमक के दाने जितने हो जाए तो वह Olympic का पूरा का पूरा Swimming pool भर सकते हैं.
If all the stars in one of the galaxies become as salt as possible, then they can fill the entire swimming pool of Olympics.

8. हवा तब तक आवाज नही करती जब यह किसी वस्तु के विपरीत न चले.
Air does not sound as long as it does not go against any object.

9. बृहस्पति इतना बड़ा ग्रह हैं की यदि शेष सभी ग्रह को आपस में जोड़ दिया जाये तो वह संयुक्त ग्रह भी बृहस्पति से छोटा ही रहेगा।
Jupiter is such a big planet that if all the other planets are joined together, then the joint planet will be smaller than Jupiter.

10. एक व्यक्ति बिना खाने के एक महीना रह सकता है पर बिना पानी के 7 दिन. अगर शरीर में पानी की मात्रा 1 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप प्यास महसूस करने लगते है. अगर यह मात्रा 10 प्रतिशत से कम हो जाए तो आप की मौत हो जाएगी.
A person can live one month without eating but 7 days without water. If the amount of water in the body is less than 1 percent then you start feeling thirsty. If this amount falls below 10 percent then you will die.

11. अभी तक उल्का पिंड द्वारा सिर्फ एक ही बनावटी उपग्रह नष्ट किया गया है. यह उपग्रह European Space Agency का Olympics(1993) था.

So far, only a single fictitious satellite has been destroyed by the meteorite. This satellite was the Olympics (1993) of the European Space Agency.

12. एक नजरिये से तापमान मापने के लिए Celsius स्केल Fahrenheit स्केल से ज्यादा अक्लमंदी से बनाया गया. पर इसके निर्माता Andero Celsius एक अनोखे वैज्ञानिक थे. जब उन्होंने पहली बार इस स्केल को विकसित किया, उन्होंने गलती से जमा दर्जा 100 और ऊबाल दर्जा 0 डिग्री बनाया. पर कोई भी उन्हें इस गलती को कहने का हौसला न कर सका, सों बाद के वैज्ञानिकों ने सकेल को ठीक करने के लिए उनकी मृत्यु का इंतजार किया.
To measure the temperature from a perspective, the Celsius scale is made more efficient than the Fahrenheit scale. But its manufacturer Andero Celsius was a unique scientist. When he developed this scale for the first time, he accidentally got 100 degree of credit and the degree of depression 0 degree. But no one could encourage him to say this mistake, after all the scientists awaiting his death to cure Sakel.

13. Albert Einestein के अनुसार हम रात को आकाश में लाखों तारे देखते है जगह नही होते बल्कि कही और होते है. हमें तों उनके द्वारा छोडा गया कई लाख प्रकाश साल पहले का प्रकाश होता है.

According to Albert Einestein we see millions of stars in the sky at night, but there is no place. We have the light of many hundred thousand light years left by him.

14. आम तौर पे classes में पढ़ाया जाता है कि प्रकाश की गति 3 लाख किलोमीटर प्रति सैकेंड होती है. पर असल में यह गति 2,99,792 किलोमीटर प्रति सैकेंड होती है. यह 1,86,287 मील प्रति सैकेंड के बराबर होती है.

Normally classes are taught that the speed of light is 3 lakh km per second. But in reality this speed is 2,99,792 kilometers per second. It is equivalent to 1,86,287 miles per second.

15. October 1992 में लंदन के आकार जितना बड़ा बर्फ का गोला Antarctic से टूट कर अलग हो गया था.
In October 1992, the size of the larger ice ball was broken by the Antarctic of London.

16. अगर हम प्रकाश की गति से अपनी नजदीकी गैलैक्सी (Galaxy) पर जाना चाहे तो हमें 20 साल लगेगें.
If we want to go to Galaxy closer to the speed of light, we will take 20 years.

17. विश्व की सबसे भारी धातु ऑस्मियम है। इसकी 2 फुट लंबी, चौड़ी व ऊँची सिल्ली का वज़न एक हाथी के बराबर होता है।
The world's heaviest metal is osmium. Its 2 feet long, wide and high stitch is equal to one elephant.

18. जब पानी से बर्फ बन रही होती तो लगभग 10% पानी तो उड़ ही जाता है. इसलिए ही हमारे फ्रिज में Tray (ट्रे) पर पानी जमा हो जाता है.
When water was formed from the water, then about 10% of the water would fly. That's why water is stored on the tray (tray) in our fridge.

19. दुनिया के सबसे महंगे पदार्थ की कीमत सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। इसका नाम जानने के बाद आप ये सोंच भी नहीं सकेंगे कि वाकई में इसकी कीमत इतनी ज्यादा होगी। आपमें से ज्यादातर लोग इसे सोना, चांदी या हीरा मान रहे होंगे। अगर ऐसा है तो आपको गलतफहमी में है। दुनिया की सबसे महंगा पदार्थ एंटीमैटर(प्रतिपदार्थ) है। प्रतिपदार्थ पदार्थ का एक ऐसा प्रकार है जो प्रतिकणों जैसे पाजीट्रान, प्रति-प्रोटान, प्रति-न्युट्रान मे बना होता है. ये प्रति-प्रोटान और प्रति-न्युट्रान प्रति क्वार्कों मे बने होते हैं. इसकी कीमत सुनकर आपके होश उड़ जायेंगे। 1 ग्राम प्रतिपदार्थ को बेचकर दुनिया के 100 छोटे-छोटे देशों को खरीदा जा सकता है। जी हां,1 ग्राम प्रतिपदार्थ की कीमत 31 लाख 25 हजार करोड़ रुपये है। नासा के अनुसार,प्रतिपदार्थ धरती का सबसे महंगा मैटीरियल है। 1 मिलिग्राम प्रतिपदार्थ बनाने में 160 करोड़ रुपये तक लग जाते हैं। जहां यह बनता है, वहां पर दुनिया की सबसे अच्छी सुरक्षा व्यवस्था मौजूद है। इतना ही नहीं नासा जैसे संस्थानों में भी इसे रखने के लिए एक मजबुत सुरक्षा घेरा है। कुछ खास लोगों के अलावा प्रतिपदार्थ तक कोई भी नहीं पहुंच सकता है। दिलचस्प है कि प्रतिपदार्थ का इस्तेमाल अंतरिक्ष में दूसरे ग्रहों पर जाने वाले विमानों में ईधन की तरह किया जा सकता है।
You will be surprised by hearing the price of the world's most expensive item. After knowing its name, you will not even think that its value will be so high. Most of you people may consider it as gold, silver or diamond. If that is the case then you are in misunderstanding. The most expensive substance in the world is antimatter (antimatter). Antibody is a type of substance that is formed in the form of antigens such as pgtran, per-proton, per-neutron. These counter-protons and counter-neutrinas are made in quarks. Listening to its cost, your senses will fly away. 100 small countries of the world can be bought by selling 1 gram perfume. Yes, the price of 1 gram per person is 31 lakh 25 thousand crores. According to NASA, antibacterial is the most expensive material on earth. It takes up to 160 million rupees to make 1 mg of antibodies. Where it is built, there is a world's best security system. Not only that in institutions like NASA, there is a strong security cover to keep it. Apart from certain people, no one can reach to antiparadha. Interestingly, the reciprocal can be used as a fuel in the planes on space planes on other planets.

20. न्युट्रॉन तारे इतने घने होते हैं कि उनका आकार तो एक गोल्फ बाल जितना होता है मगर द्रव्यमान(वज़न) 90 अरब किलोग्राम होता है.
The neutron stars are so dense that they are shaped like a golf ball but the mass is 90 billion kilograms.